टोपोलॉजी क्या है | नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार


टोपोलॉजी एक नेटवर्क के structure या आकृति को दर्शाता है। यानी की कैसे नेट्वर्क के कम्पोनेंट्स जैसे की nodes कैसे एक दूसरे के साथ जुड़े हुए होते हैं, कैसे एक दूसरे के साथ कम्यूनिकेशन स्थापित करते हैं। Topology शब्द असल में दो ग्रीक शब्दों topo और logy से उत्पन्न हुआ है, जहां पर topo का मतलब होता है जगह (place) और logy का मतलब होता है अध्ययन (study)।

वहीं अगर हम कम्प्यूटर नेट्वर्क के हिसाब से समझें तब एक topology हमें ये दर्शाता है की कैसे एक network, physically connected होता है और उन नेट्वर्क में इन्फ़र्मेशन का logical flow किस प्रकार से होता है। एक टोपोलॉजी मुख्य रूप से वर्णन करती है कि संचार लिंक का उपयोग करके उपकरण कैसे जुड़े होते हैं और एक दूसरे के साथ बातचीत करते हैं।

तो फिर चलिए अब टोपोलॉजी क्या होता है, उसके अलग अलग प्रकार क्या क्या हैं और उससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में जानते हैं।

नेटवर्क टोपोलॉजी क्या है?

नेटवर्क टोपोलॉजी न केवल भौतिक (physically) रूप से बल्कि तार्किक (logically) रूप से नेटवर्क के लेआउट, आभासी आकार या संरचना को परिभाषित करता है। एक नेटवर्क में एक ही समय में एक फ़िज़िकल और एक से ज़्यादा लॉजिकल टोपोलॉजी हो सकते हैं।

टोपोलॉजी से आप क्या समझते हैं?

कम्प्यूटरों का आपस में जुड़ने का ढंग ही नेटवर्क टोपोलॉजी कहलाता है । Computers को आपस में जोडने एवं उसमें डाटा Flow की विधि टोपोलोजी कहलाती है।

नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार

वैसे तो network topology के मुख्य रूप से दो ही प्रकार होते हैं.

  • Physical Topology
  • Logical Topology

Physical Topology

Physical topology ये दर्शाता है की कैसे computers या nodes एक दूसरे के साथ जुड़े हुए होते हैं एक कम्प्यूटर नेट्वर्क में। यह विभिन्न तत्वों (लिंक, नोड्स, आदि) की व्यवस्था है, जिसमें डिवाइस स्थान और कंप्यूटर नेटवर्क की कोड स्थापना शामिल है। दूसरे शब्दों में, हम कह सकते हैं कि यह नेटवर्क में नोड्स, वर्कस्टेशन और केबल का भौतिक लेआउट है।

Logical Topology

एक Logical टोपोलॉजी एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में डेटा प्रवाह के तरीके का वर्णन करती है। यह एक नेटवर्क प्रोटोकॉल के लिए बाध्य है और परिभाषित करता है कि पूरे नेटवर्क में डेटा कैसे स्थानांतरित किया जाता है और यह कौन सा पथ लेता है। दूसरे शब्दों में, यह वह तरीका है जिससे उपकरण आंतरिक रूप से संचार करते हैं।

फिजिकल टोपोलॉजी के प्रकार

यहाँ पर अब हम Physical Topology के अलग अलग प्रकारों के बारे में जानेंगे। वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की ये मुख्य रूप से ६ प्रकार के होते हैं।

SL. NO Topology के प्रकार Topology की परिभाषा
1. Bus Topology Bus Topology में सभी Network Nodes व कम्प्यूटर एक ही Cable से एक ही क्रम में एक कतार के रूप में जुडे़ होते हैं।
2. Ring Topology Ring Topology में सभी कम्प्यूटर एक circular structure में जुडे़ होते हैं। अतः एक दूसरे से जुड़ने पर वे सभी एक दूसरे के ऊपर ही निर्भर करते हैं।
3. Star Topology Star topology में एक Host Computer होता है, जो विभिन्न कम्प्यूटरों से जुड़कर उनको नियंत्रित करता है।
4. Mesh Topology Mesh Topology में प्रत्येक नेटवर्क Node कहीं न कहीं अन्य network से जुड़कर एक जाल जैसा  structure बनाते हैं जिस कारण इसे Mesh भी कहा जाता है।
5. Tree Topology Tree Topology का structure मिश्रित structure होता है, जिसमें star topology और bus topology दोनों के ही लक्षण पाये जाते हैं।इसमें Star topology की तरह एक main host computer होता है और Bus Topology की तरह सभी local computers एक ही cable से एक निश्चित क्रम में जुडे़ होते हैं।
6. Hybrid Topology Hybrid Topology का मतलब बिल्कुल इसके नाम अनुसार ही है जिसमें दो या दो से अधिक अलग- अलग प्रकार की टोपोलोजी मिलकर एक मिश्रित टोपोलोजी बनाती है।

नेटवर्क टोपोलॉजी का महत्व

चलिए अब जानते हैं की आख़िर Network Topology इतना ज़्यादा महत्वपूर्ण क्यूँ होता है :-

  • यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है नेट्वर्क के सही तरीक़े से फ़ंक्शन होने में।
  • ये हमें networking concepts को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है।
  • ये operational और maintenance costs को कम करने में सक्षम होता है।
  • एक नेटवर्क टोपोलॉजी एक नेटवर्क को केबल करने के लिए उपयोग किए जाने वाले मीडिया प्रकार को निर्धारित करने का एक कारक है।
  • नेटवर्क टोपोलॉजी का उपयोग करके त्रुटि या गलती का पता लगाना आसान बैन जाता है।
  • इसके ज़रिए resources और नेट्वर्किंग component का उचित और प्रभावी उपयोग हो पाता है।

आपके नेटवर्क के लिए कौन सी टोपोलॉजी सर्वश्रेष्ठ है, कैसे पता करें ?

ऐसे तो कोई भी network topology अपने आप सर्वश्रेष्ठ नहीं होता है। ये उस जगह पर और नेट्वर्क के आक़ार पर निर्भर करता है की आप वहाँ पर किसका इस्तमाल कर सकते हैं। चलिए कुछ चीजों के बारे में जानते हैं जिन्हें आपको ज़रूर से जानना चाहिए यदि आप किसी नेट्वर्क topology का चुनाव कर रहे हों :-

  • केबल की लम्बाई
  • केबल का प्रकार
  • क़ीमत
  • अनुमापकता (Scalability)

Cable Length 

अक्सर ये देखा गया है की जितनी ज़्यादा cable का इस्तमाल होता है एक network topology में, उतना ही ज़्यादा काम और लागत भी लगती है इसे setup करने में। इसलिए जहां bus और star topologies बहुत ही सिम्पल होती हैं और lightweight भी, वहीं mesh networks ज़्यादा कॉम्प्लेक्स होती है।

Cable Type 

अब आपको केबल के प्रकार को चुनना होता है जिसे आप इंस्टॉल करना चाहते हैं। Twisted-pair cables ज़्यादा cost-effective होते हैं, वहीं लेकिन इनमें काम bandhwidth होता है coaxial cables की तुलना में।

वहीं Fiber-optic cables काफ़ी ज़्यादा high पर्फ़ॉर्मिंग होती है और तेज़ी से data ट्रान्स्फ़र भी कर सकती है लेकिन ये ज़्यादा क़ीमती होती हैं। ऐसे में आपको अपने ज़रूरत और बजट के अनुसार केबल के प्रकार को चुनना चाहिए।

Cost

अब बात आती है क़ीमत की, यदि आप complex नेट्वर्क topology का इस्तमाल करते हैं और साथ में क़ीमती केबल का भी तब आपको इस प्रक्रिया में काफ़ी ज़्यादा भुक्तान करना पड़ सकता है। ऐसे में आपको ये तय करना होगा की आपके ज़रूरत के हिसाब से और बजट के हिसाब से आपके लिए कौन सा topology सही है, जो की आपको उचित पर्फ़ॉर्मन्स प्रदान करे।

Scalability 

अब बारी आती है स्केलबिलिटी की, जहां आपको ये तय करना होगा की आप जो भी नेट्वर्क topology का चुनाव करते हैं वो किस हिसाब से आपके कम्पनी के लिए उपयुक्त है। यानी की क्या आप चाहें तो उस नेट्वर्क topology के इस्तमाल से नेट्वर्क को scale कर सकते हैं या नहीं।

मतलब की आप कितनी आसानी से चीजों में फेर बदल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, रिंग नेट्वर्क में आपको पूरी नेट्वर्क को ऑफ़्लाइन करना होता है कोई भी nodes में फेर बदल करने के लिए, वहीं star टपॉलॉजी में ऐसा करना बिलकुल ही आसान होता है।

ऊपर चर्चा की गई प्रत्येक टोपोलॉजी के अपने फायदे और नुकसान हैं। इसलिए, सही नेटवर्किंग मॉडल बनाने और कॉन्फ़िगर करने की कुंजी व्यक्तिपरक है। किसी भी कंपनी के लिए किसी विशेष नेटवर्क टोपोलॉजी को अपनाने से पहले सभी आवश्यकताओं और जरूरतों को इकट्ठा करना बहुत जरूरी है।

कौनसी टोपोलॉजी सबसे सस्ती है?

सबसे सस्ती बस टोपोलॉजी होती है. बस टोपोलॉजी के नेटवर्क को बनाना बहुत आसान होता है और यह टोपोलॉजी मेकरम के बल का प्रयोग होता है।

सबसे अच्छा टोपोलॉजी कौन सा है?

सबसे अच्छा टोपोलॉजी स्टार टोपोलॉजी (Star Topology) है। इससे सभी उपकरण और कंप्यूटर एक सेंट्रल होस्ट जिसे होस्ट नोट भी कहते हैं. जिसे ट्वीस्टेंड पेपर, कोएक्सियल, केबल का फाइबर ऑप्टिक केबल से जुड़ा रहता है और यह एक server की तरह काम करता है, और जो भी इंफॉर्मेशन देनी होती है वह इसी नेटवर्क से शेयर करता है।

सबसे महंगी टोपोलॉजी कौन सी है?

Hybrid Topology (हाइब्रिड टोपोलॉजी) सबसे महंगी network टोपोलॉजी है.

किस टोपोलॉजी को सबसे बेहतरीन माना गया है ?

Full Mesh topology को सबसे बेहतरीन माना गया है। वैसे ये आपके नेट्वर्क और बजट के ऊपर भी निर्भर करता है।

किस टोपोलॉजी में डेटा सबसे तेज़ी से ट्रान्स्फ़र होता है?

Star topology में data सबसे तेज़ी से ट्रान्स्फ़र होता है।

कौन सी टोपोलॉजी सबसे सस्ती होती है?

Bus topology सबसे सस्ती होती है।

आज आपने क्या सीखा?

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख टोपोलॉजी क्या है जरुर पसंद आई होगी. इसे पढ़ने के बाद आप आसानी से टोपोलॉजी की ज़रूरी जानकारी समझ गए होंगे। मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Share Market in hindi की पूरी जानकारी के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

यदि आपको यह post लेख टोपोलॉजी के प्रकार पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *